Science News (Hindi) 2018

Click here 

Science News Latest






July 2018
             
       Headlines
# सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण 27 जुलाई को हुआ।
# मंगल ग्रह 27 जुलाई को धरती के सबसे नजदीक आया।
# मंगल ग्रह पर विशाल भूमिगत जल स्रोत का पता चला।
# ISRO ने अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने की तैयारी में बड़ी कामयाबी हासिल की।


                 अब समाचार विस्तार से

# सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण 27 जुलाई को हुआ।
 27 जुलाई 2018 की रात को पूरी दुनिया में एक अनोखी खगोलीय घटना देखने को मिली। इस रात लोगों ने एक दुर्लभ चंद्र ग्रहण की घटना को देखा जो 21वी सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण था। यह चंद्रग्रहण लगभग पूरी दुनिया में देखी गई। भारतीय उपमहाद्वीप में इस चंद्र ग्रहण को सबसे अच्छी तरह से देखा गया किंतु पूरे भारत के अधिकांश हिस्सों में खराब मौसम के कारण लोग इस दुर्लभ चंद्रग्रहण की घटना को नहीं देख पाए। यह चंद्र ग्रहण भारत में रात्रि 11: 24 पर शुरू हुआ और 1 घंटा 45 मिनट तक चला। इस प्रकार का लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण लंबी-लंबी अवधि के बाद देखने को मिलती है। इस बार पूर्ण चंद्र ग्रहण के दौरान चंद्रमा लाल रंग का हो गया था जिसे ब्लड मून कहा जाता है। कुछ ऐसा ही घटना जनवरी 2018 में भी देखने को मिला था।

# मंगल ग्रह 27 जुलाई को धरती के सबसे नजदीक आया।
 अगर आप मंगल ग्रह के बारे में जानने की इच्छा रखते हैं तो यह खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए। बात ये है कि इस जुलाई महीने में मंगल ग्रह पृथ्वी के काफी नजदीक था और 27 जुलाई को पृथ्वी के सबसे नजदीक था। इससे पहले ऐसी घटना 2003 में हुआ था और 2003 से पहले लगभग 60,000 साल पहले हुआ था। मंगल ग्रह वैज्ञानिकों और  लोगों में काफी लोकप्रिय हैं, ऐसे में अगर मंगल धरती के काफी नजदीक हो तो इसे कौन नहीं देखना चाहेगा। इसे आप अपनी नंगी आंखों से देख सकते थे।

 # मंगल ग्रह पर विशाल भूमिगत जल स्रोत का पता चला।

मंगल ग्रह पूरी दुनिया के बीच आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। वैज्ञानिक यहां जीवन बसाने की संभावनाओं की खोज कर रहे हैं। अमेरिकी जनरल 'साइंस' कें अध्ययन में वैज्ञानिकों ने कहा कि मंगल पर पानी झील के रूप में मौजूद हैं। जो लगभग 20 किलोमीटर में फैली हुई है। यह तरल पानी का स्रोत बर्फीली सतह से 1 किलोमीटर नीचे मौजूद हो सकता है। मंगल ग्रह पर जल के बारे में शोध पहले भी हुए थे और पुष्टि हुई थी कि अतीत में मंगल की सतह पर जल तरल के रूप में मौजूद रहा होगा। यह खोज उन लोगों के लिए काफी महत्वपूर्ण है जो मंगल पर जीवन की संभावनाओं की तलाश कर रहे हैं।

# ISRO ने अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने की तैयारी में बड़ी कामयाबी हासिल की।
 इसरो के वैज्ञानिकों को अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने की योजना में बड़ी कामयाबी मिली है। वैज्ञानिकों ने 5 जुलाई को सुबह श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से इसका सफल परीक्षण किया। यह मिशन अंतरिक्ष यात्रियों के रक्षा करने के लिए था। सुबह करीब 7: 00 बजे रॉकेट ' क्रू मॉडयूल' को लेकर उड़ान भरी। उड़ान भरने के 259 सेकंड बाद 2.7 किलोमीटर की ऊंचाई पर ' क्रू मॉडयूल' वाला हिस्सा रॉकेट से अलग हो गया। इस ' क्रू मॉडयूल' का वजन करीब 12.6 टन था। इस ' क्रू मॉडयूल' को श्रीहरिकोटा से 2.9 km दूर बंगाल की खाड़ी में सफलतापूर्वक उतारा गया। उड़ान भरने के दौरान जब यान में कोई दिक्कत आती है तो यह 'क्रू मॉड्यूल' अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर रॉकेट से अलग हो जाती है। इस प्रकार से अंतरिक्ष यात्री सुरक्षित धरती पर वापस आ जाते हैं। इस पूरे परीक्षण का ISRO द्वारा वीडियो जारी किया गया। इसरो को करीब 2025 तक अंतरिक्ष में मानव मिशन भेजने की योजना है जिसमें यह परीक्षण मील का पत्थर साबित होगा।

------------------------------------------------------------------- science news is hindi, Science News in hindi, NASA, ISRO, Space agencies, India, Technolgy, Science News Expertise Tv, Hindi Science News, विज्ञान समाचार, विज्ञान समाचार जुलाई , जुलाई 2018 का विज्ञान समाचार, इस महीने का समाचार, vigyan samachar, Vigyan samachar hindi,
Sadi ka sabse lamba chandragrahan 27 july ko hua.
Mangal grah 27 julyko dharti ke sabse najdik aaya.
Mangal grah pr vishal bhumigat jal srot ka pata chala
Isro ne ne manav mission bhejne ki disha me badi kamyabi hashil ki.
-------------------------------------------------------------------

Comments


  1. Elephant birds The birds of Madagascar lived up to the 18th century. In 1851 they were officially named and named by Ideod Geoffrey Saint-Hilier. Because of its large size, its name was given.If you look at the elephant birds, you will be disappointed. Since these birds are not actually the size of elephants - although they are larger. On an average elephant bird was about 10 feet tall and weighed about 1,000 pounds or a half tons. Although the elephant is not as big, it is the largest bird of all time.

    The bird is located in the Madagascar Indian Ocean in the east coast of Africa. One of the interesting facts about elephant birds is that the island's environment has largely contributed to their magnitude.It was a mild tropical environment because it had a lot of plants to eat, but there were not many hunters in other places. This bird has evolved to a great extent. This is due to an evolutionary theory called insular jihadism.

    Although the elephant bird is big and scary, it's probably the least dangling tropical fruit and small animals you can expect to eat. This theory has been demonstrated by other small weathered ratites and its bodies are perfectly designed to feed a fruit. panseva.com

    They stand at 3m tall and large egg laying, which were larger than dinosaurs, weighing at least half a ton.Elephant birds, Abbeyornis . "These birds have spent millions of years together in plants and animals in Madagascar," he said. "To help save more destructive plants in Madagascar, we need to understand lost environmental interactions."

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular stories

बाल्कन देश ( Balkan countries)

Top 10 Space agencies (10 सबसे बड़ी अंतरिक्ष संस्थाएं)

प्रमुख जलसन्धि (Important Straits)

Amazon Rainforest (अमेज़न वर्षावन)

महासागरीय तल

Science News (विज्ञान समाचार) June

Science News (विज्ञान समाचार)